फार्मा की सेहत सुधरी, इन 5 शेयरों से मिल सकता है अच्छा रिटर्न,

सनम मीरचंदानी  : सन फार्मास्युटिकल इंडस्ट्रीज के हलोल प्लांट को यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन से क्लियरेंस मिल जाने से फार्मा स्टॉक्स में तेजी दिख रही है। निफ्टी फार्मा इंडेक्स हाल के अपने निचले स्तरों से 13 पर्सेंट से ज्यादा चढ़ गया है। इससे इस सेक्टर की हालत सुधरने पर भरोसा बढ़ने का संकेत मिल रहा है। अमेरिकी बाजार में दवाओं की कीमतों पर दबाव बना हुआ है, लेकिन ऐनालिस्ट्स का मानना है कि मिड और लार्ज कैप फार्मा सेगमेंट्स में चुनिंदा शेयरों पर गौर किया जा सकता है।

सन फार्मास्युटिकल

यूएस एफडीए से हलोल प्लांट को क्लियरेंस मिल जाने से इस शेयर में तेजी आई है। गुरुवार को यह 2.57 पर्सेंट चढ़कर 559.65 रुपये पर बंद हुआ। बीएनपी पारिबा के स्वामित्व वाले शेयरखान के रिसर्च हेड गौरव दुआ ने कहा कि काफी नकारात्मक बातों का असर इस शेयर के भाव में शामिल हो चुका है। दुआ ने कहा, ‘इसे देखते हुए ही हमने चौथी तिमाही के नतीजों के बाद सन फार्मा की रेटिंग सेल से अपग्रेड कर बाय कर दी थी। अमेरिका में प्राइसिंग के मामले में दबाव बना हुआ है, लेकिन उस दबाव की तीव्रता घट रही है। कंपनी की प्रॉडक्ट पाइपलाइन भी दमदार है।’

बायोकॉन

विकसित बाजारों में प्रॉडक्ट्स को अप्रूवल मिलने और इमर्जिंग मार्केट्स में अच्छी कारोबारी रफ्तार को देखते हुए इस शेयर के बारे में पॉजिटिव सेंटीमेंट बन रहा है। आईसीआईसीआई सिक्यॉरिटीज के ऐनालिस्ट सिद्धांत खांडेकर ने कहा, ‘बायोकॉन को डिवेलप्ड मार्केट्स में अप्रूवल्स मिल रहे हैं। उसे बायोसिमिलर्स के मामले में इमर्जिंग मार्केट्स में ग्रोथ भी मिल रही है। सिंजीन और बायोलॉजिक्स का योगदान फाइनैंशल इयर 2018 के दौरान इसके टर्नओवर में 50 पर्सेंट रहा। बायोकॉन के लिए ये आगे भी अहम रहेंगे।’ गुरुवार को यह बीएसई पर 0.30 पर्सेंट चढ़कर 614 रुपये पर बंद हुआ।

एल्केम लैबरेटरीज
मोतीलाल ओसवाल फाइनैंशल सर्विसेज के वाइस प्रेसिडेंट सौरभ कुमार ने कहा कि एल्केम के शेयर से 15-20 पर्सेंट रिटर्न आसानी से मिल सकता है। कुमार ने कहा, ‘भारत में इसके कारोबार की ग्रोथ 15-16 पर्सेंट से होती रहेगी, प्रॉफिटेबल ग्रोथ के कारण मार्जिन में बढ़ोतरी होगी और फाइनैंशल इयर 2019 में टैक्स रेट में भी कमी आएगी।’ गुरुवार को यह बीएसई पर 1.33 पर्सेंट गिरकर 1980 रुपये पर बंद हुआ।

अजंता फार्मा

मोतीलाल ओसवाल के कुमार को यह शेयर अट्रैक्टिव वैल्यूएशन के कारण पसंद है। कुमार ने कहा, ‘इस शेयर में गिरावट आई है। यह अब फॉरवर्ड अर्निंग्स के 15 गुने पर ट्रेड कर रहा है। फाइनैंशल इयर 2019 के दौरान ग्रोथ कुछ कम रह सकती है क्योंकि अमेरिकी और इमर्जिंग मार्केट्स में कुछ चुनौतियां हैं। हालांकि फाइनैंशल इयर 2020 से ग्रोथ फिर सामान्य स्तर पर आ जाएगी।’ गुरुवार को यह बीएसई पर 2 पर्सेंट चढ़कर 1057.10 रुपये पर बंद हुआ।

डिविज लैबरेटरीज

ऐनालिस्ट्स का कहना है कि इस शेयर से पैसा बनाने की गुंजाइश अब भी बची हुई है। शेयरखान के दुआ ने कहा, ‘यह एक्टिव फार्मास्युटिकल इनग्रेडिएंट्स के मामले में स्पेशलाइज्ड कंपनी है। इसके साथ कुछ रेगुलेटरी मसले थे, लेकिन अब वे सुलझ चुके हैं। इंडस्ट्री से बेहतर ग्रोथ के कारण यह शेयर हमेशा ही प्रीमियम पर ट्रेड करता रहा है।’ गुरुवार को यह 4.28 पर्सेंट चढ़कर 1084.30 रुपये पर बंद हुआ।

Print Friendly, PDF & Email

You May Also Like

   

     

     
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: