लगातार चौथे दिन बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम

नई दिल्ली: राजनीति श्रेय लेने का कारोबार है. जवाबदेही के वक़्त कोई नज़र नहीं आता. एक दौर था जब पेट्रोल के दाम कुछ कम भी हुए मगर कच्चे तेल की अन्तरराष्ट्रीय क़ीमतों के अनुपात में नहीं. चालीस डॉलर प्रति बैरल पर भी लोगों से उतना ही वसूला गया जितना सौ डॉलर प्रति बैरल पर लिया जाता था. मगर बीच-बीच में कुछ पैसे की कमी और कभी-कभी एक से दो रुपये की कमी भी हुई है, जिसका ढिंढोरा पीटा गया. यह पोस्टर उसी दौर का है, जब बीजेपी तेल के दामों में कमी का श्रेय लेती थी.

तब दिल्ली में विधानसभा चुनाव हो रहे थे. कर्नाटक चुनाव के कारण उन्नीस दिनों तक दाम नहीं बढ़ा. चुनाव ख़त्म होते ही तीन दिनों से लगातार दाम बढ़े हैं. कभी पंद्रह पैसे तो कभी पचीस पैसे के हिसाब से. कल दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल का दाम 75.06 रुपये प्रति लीटर था. शायद पाँच साल में सबसे अधिक. वैसे जनता को इससे फ़र्क़ नहीं पड़ रहा है फिर भी सरकार ऐसे पोस्टर तो लगा ही सकती थी. मुंबई के लोग तो एक लीटर के लिए 82 रुपये से अधिक दे रहे हैं.

यह पूछे जाने पर कि सरकार मसले से निपटने के लिये क्या कर रही है, प्रधान ने कहा कि राज्यों को पेट्रोल और डीजल पर बिक्री कर या वैट में कटौती करनी चाहिए. यह पूछे जाने पर कि क्या उनके मंत्रालय ने उत्पाद शुल्क में कटौती की मांग की है, उन्होंने कहा कि टुकड़ों में ऐसा करने से मदद नहीं मिलेगी.
प्रधान ने कहा, ‘‘चीजों को समग्र रूप से देखने की जरूरत है. हमें राजकोषीय संतुलन ठीक रखना है और साथ ही उपभोक्ताओं के हितों की भी रक्षा करनी है.’’ उन्होंने कहा कि सरकार इस मुद्दे पर सामूहिक रूप से गौर कर रही है. मंत्री ने कहा कि तेल कीमतों पर नजर है. इस सप्ताह की शुरुआत में वित्त मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा था कि अगर सरकार राजकोषीय घाटे में कमी लाना चाहती है तो उत्पाद शुल्क में कटौती की सलाह उपयुक्त नहीं है.
16 मई को महाराष्ट्र के रत्नागिरी में एक लीटर प्रेट्रोल का भाव 83.92 रुपये था. एक लीटर डीज़ल का दाम था 70.78 रुपये. 1 नवंबर को इसी रत्नागिरी में पेट्रोल 77.34 रुपये प्रति लीटर था और डीज़ल 60.48 रुपये प्रति लीटर.
एक नवंबर से पेट्रोल के भाव में 6 रुपये 58 पैसे की वृद्धि हुई है और डीज़ल के भाव में 10 रुपये 30 पैसे की. लुधियाना में 80.48 रुपये प्रति लीटर है. ज़िरकापुर में 80.54 रुपये प्रति लीटर.
Print Friendly, PDF & Email

You May Also Like

   

     

     
error: Content is protected !!