नीरव मोदी की कंपनियों से जूलरी खरीदने वाले अमीरों की ITR का फिर से आकलन करेगा आयकर विभाग

नई दिल्ली : आयकर विभाग ने 50 से अधिक ऐसे धनी व्यक्तियों (HNI) के आयकर रिटर्न का फिर से आकलन करने का फैसला किया जिन्हें भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की कंपनियों से महंगे आभूषण खरीदे थे। इस लिस्ट में अभिषेक मनु सिंघवी की पत्नी अनीता सिंघवी भी शामिल हैं। कर विभाग ने इससे पहले कई लोगों को नोटिस भेजकर उनसे आभूषण खरीद का स्रोत पूछा था। इनमें से ज्यादातर ने कहा कि उन्होंने नीरव मोदी की कंपनियों को कोई नकद भुगतान नहीं किया है। इसके बाद विभाग ने उनके आईटीआर की नए सिरे से जांच का फैसला किया है
अधिकारियों ने बताया कि विभाग को ऐसे दस्तावेज मिले हैं जिनसे पता चलता है कि इन चुनिंदा खरीदारों ने हीरे के महंगे आभूषणों की खरीद के लिए अलग-अलग हिस्सों मसलन चेक या कार्ड (डेबिट या क्रेडिट) और शेष का भुगतान नकद में किया। कर नोटिसों के जवाब में ज्यादातर लोगों ने कहा है कि उन्होंने नकद भुगतान नहीं किया। हालांकि, उनका यह बयान विभाग के पास मौजूद आंकड़ों से मेल नहीं खाता। सूत्रों ने कहा कि नकद भुगतान को छिपाने का मामला सामने आया है। कई मामलों में यह लाखों रुपये है। सूत्रों ने कहा कि ऐसे मामलों में HNI पर कर चोरी के लिए उचित कार्रवाई की जाएगी।

राजनेता योगेंद्र यादव के रिश्तेदार गौतम यादव का भी नाम इस लिस्ट में है। आयकर विभाग को पता चला है कि हरियाणा में अस्पताल चलाने वाले गौतम ने 15 करोड़ रुपये का अघोषित लेनदेन किया। सूत्रों का कहना है कि अनीता सिंघवी से आयकर विभाग ने नोटिस भेजकर नीरव मोदी से जूलरी खरीदने पर किए गए 5 करोड़ के कैश लेनेदेन के स्रोत के बारे में पूछा था।

Print Friendly, PDF & Email

You May Also Like

   

     

     
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: