लखनऊ गोल्फ क्लब में कुर्ता-पजामा पहनकर जाने से रोका

चंदौली के एक न्यायिक अधिकारी को बृहस्पतिवार को लखनऊ गोल्फ क्लब में जाने से इसलिए रोक दिया गया क्योंकि वे कुर्ता-पाजामा पहने थे।चंदौली के एक न्यायिक अधिकारी को बृहस्पतिवार को लखनऊ गोल्फ क्लब में जाने से इसलिए रोक दिया गया क्योंकि वे कुर्ता-पाजामा पहने थे। न्यायिक अधिकारी ने विरोध किया तो रिसेप्शन पर बैठे युवक ने ड्रेस कोड का हवाला दिया। इस पर न्यायिक अधिकारी बाहर चले गए। इस बीच, सोशल मीडिया पर गोल्फ क्लब में हंगामा होने का मैसेज वायरल हो गया।

क्षेत्राधिकारी हजरतगंज अभय कुमार मिश्र मौके पर पहुंचे। उन्होंने कहा कि क्लब में कोई हंगामा नहीं हुआ। न्यायिक अधिकारी ने पुलिस से किसी तरह की शिकायत भी नहीं की है।न्यायिक अधिकारी ने बताया कि वे अपने बेटे के कोच के साथ डिनर करने पहुंचे थे। गेट से भीतर पहुंचे तो रिसेप्शन पर बैठे युवक ने उन्हें रोक लिया। वजह पूछने पर बताया कि क्लब में ड्रेस कोड लागू है। कुर्ता-पाजामा में उन्हें प्रवेश नहीं दिया जा सकता। न्यायिक अधिकारी ने विरोध किया तो रिसेप्शनिस्ट ने नोटिस बोर्ड की तरफ इशारा कर दिया। नोटिस बोर्ड देखकर न्यायिक अधिकारी क्लब से बाहर आ गए।

पीएम भी तो कुर्ता-पाजामा पहनते हैं

रिसेप्शनिस्ट के रोकने पर न्यायिक अधिकारी ने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री भी कुर्ता-पाजामा पहनते हैं। अगर वे क्लब आते हैं तो क्या उन्हें भी इसी तरह रोक दिया जाएगा। इस पर रिसेप्शनिस्ट ने कोई जवाब नहीं दिया। न्यायिक अधिकारी ने कहा- आज पहली बार अपने देश में कुर्ता-पाजामा पहनने पर लज्जा हुई।

ड्रेस कोड के पालन पर ही एंट्री

लखनऊ गोल्फ क्लब के सचिव रजनीश चोपड़ा का कहना है, ‘हमारे क्लब का ड्रेस कोड है, जिसके साथ ही एंट्री मिलती है। यहां पर क्लब के सदस्यों को ही खाने आदि की सुविधाएं दी जाती है। अगर ऐसा कुछ हुआ भी है तो क्लब के नजरिए से कुछ भी गलत नहीं है।’
Print Friendly, PDF & Email

You May Also Like

   

     

     
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: