लखनऊ के लोहिया संस्थान के डाक्टरों ने मरीज के गुर्दे से निकालीं 2800 पत्थरी

लखनऊ के लोहिया संस्थान के डॉक्टरों ने गुर्दे की पथरी के इलाज में नया कीर्तिमान स्थापित किया है। डॉक्टरों ने मरीज के गुर्दों से 2800 से ज्यादा पथरी निकालने में कामयाबी हासिल की है। डॉक्टरों का दावा है कि अभी तक दिल्ली के एक अस्पताल में गुर्दे से 856 पथरी निकालने का रिकॉर्ड दर्ज है।

हरदोई के शाहाबाद निवासी राम प्रकाश (48) को पेट में दर्द की शिकायत हुई। जांच में गुर्दे में पथरी की पुष्टि हुई। परिवारीजन मरीज को लेकर लोहिया संस्थान आए। यहां यूरोलॉजी विभाग के अध्यक्ष डॉ. ईश्वर राम दयाल ने मरीज को देखा। क्रॉनिक किडनी डिजीज (सीकेडी) की पुष्टि की। जांच में पता चला मरीज के गुर्दो में तीन बड़े व छोटे-छोटे कई पत्थर हैं।

ऑपरेशन शुरू किया तो दिखी पथरी
यूरोलॉजी विभाग में डॉक्टरों ने ऑपरेशन की तैयारी शुरू की। दाहिने गुर्दे में एक पथरी थी जिसे लेजर मशीन से तोड़कर निकाल दिया गया। वहीं बाई गुर्दे में दो बड़ी पथरी नजर आईं। जिसे लेजर से तोड़ कर बाहर निकाली गई। डॉ. ईश्वर राम दयाल ने बताया कि गुर्दे में छोटी-छोटी ढेरों पथरी नजर आईं। इसके बाद सक्शन मशीन से पथरी खीच कर निकाली गईं।

वार्ड ब्वॉय से गिनाई पथरी
ढेरों पथरी देख डॉक्टर चकरा गए। डॉक्टरों की टीम को कुछ सूझ नहीं रहा था। इसके बाद टीम के सदस्यों ने वार्ड ब्वॉय को पथरी गिनने के लिए बुलाया। करीब एक घंटे की मेहनत के बाद वार्ड ब्वॉय पथरी गिन पाया।

मुफ्त हुआ ऑपरेशन
मरीज राम प्रकाश बीपीएल कार्ड धारक हैं। इसलिए संस्थान प्रशासन ने मरीज का मुफ्त ऑपरेशन कराने का फैसला किया। डॉ. ईश्वर ने बताया कि सरकार की योजना के तहत मरीज का ऑपरेशन हुआ किया गया है। किसी भी प्राइवेट अस्पताल में डेढ़ से दो लाख रुपये में यह ऑपरेशन होता। मरीज की तबीयत में सुधार है।

ऑपरेशन टीम के हीरो
यूरोलॉजी विभाग के अध्यक्ष डॉ. ईश्वर राम दयाल, डॉ. आकाश, एनस्थीसिया विभाग के डॉ. अनुराग, डॉ. विकास शामिल थे। वहीं पैरामेडिकल स्टाफ में अवधेश शर्मा व टेक्नीकल स्टाफ प्रमोद पांडेय शामिल थे।

Print Friendly, PDF & Email

You May Also Like

   

     

     
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: