नवरात्रि पर देवी दुर्गा को चढ़ाने के लिए लड़की ने निकाल ली अपनी आंखें

बिहार के दरभंगा में चैत्र नवरात्रि के मौके पर एक लड़की ने देवी दुर्गा पर चढ़ाने के लिए अपनी आंख निकाल ली. वह इसे दुर्गा की प्रतिमा पर चढ़ाने की कोशिश कर रही थी, लेकिन तभी पूजा कमिटी के लोगों की नज़र उसपर पड़ गई और उन्होंने उसे रोक लिया. इस दौरान लड़की बेहोश हो गई, जिसके बाद गांववालों की मदद से उसे तुरंत दरभंगा मेडिकल कॉलेज एंव अस्पताल (डीएमसीएच) में भर्ती कराया गया.

ये पूरी घटना जिले के बहेड़ी थाना अंतर्गत सिरुआ गांव की है, जहां  शनिवार की सुबह दुर्गा पूजा के बेलतोड़ि की रस्म निभाने के बाद लोग मंदिर प्रांगण पहुंचे थे. तभी कोमल कुमारी नाम की इस लड़की ने देवी की चौखट पर बैठ कर अपनी उंगलियों के जरिये अपनी दोनों आंख निकाल ली.

इस घटना के बाद पूरे मंदिर प्रांगण में हंगामा मच गया. लड़की को देख वहां के लोग भी हैरान है. कुछ लोग कह रहे हैं कि लड़की के शरीर में देवी दूर्गा प्रवेश कर गई थी, जिससे उसने यह कदम उठाया. वहीं कुछ का कहना है कि लड़की मन्नत के चलते अपनी आंख चढ़ाने जा रही थी.

वहीं मौके पर ही मौजूद एक महिला ने बताया कि उसके सामने ही लड़की ने आपनी आंख निकाल ली. बहेड़ी पुलिस थाने के प्रभारी कहते हैं, ‘लड़की जिन महिलाओं के साथ नवरात्रों का व्रत रख रही थी, उनमें से कुछ ने उसे अपनी आंखें निकालते हुए देखा था, लेकिन जब तक वह उसे रोक पाते, तब तक उसने आंखें निकाल ली थी.’

डीएमसीएच में लड़की का इलाज कर रहे डॉ. संतोष कुमार मिश्रा ने बताया कि लड़की ने अपनी उंगलियों से ही अपनी दोनों आंखें निकाल ली. वह कहते हैं कि मेडिकली ऐसा केस बहुत ही रेयर ऑफ द रेयरेस्ट होता है. लड़की की आंख को डॉक्टरों ने अपनी जगह सेट कर दिया है, लेकिन आंख की रौशनी को लौटना संभव नहीं बताया है.

Print Friendly, PDF & Email

You May Also Like

   

     

     
error: Content is protected !!