आज लक्ष्मणनगरी में दिखेगा पुरी का नजारा,रथ पर सवार होकर न केवल नगर का भ्रमण करेंगी

लखनऊ। जगन्नाथ पुरी की तर्ज पर लक्ष्मण नगरी में निकलने वाली भगवान श्री जगन्नाथ की यात्रा को लेकर तैयारियां पूरी हो गई हैं। पुरी की तर्ज पर भगवान श्री जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा रथ पर सवार होकर न केवल नगर का भ्रमण करेंगी, बल्कि यात्रा में पर्यावरण संरक्षण के साथ ही आदि गंगा गोमती को स्वच्छ करने का संदेश भी दिया जाएगा। राजधानी में चौक, कपूरथला, अमीनाबाद, ऐशबाग विधान सभा मार्ग समेत कई स्थानों से यात्रा निकाली जाएगी।चौपटिया में दो लाख की चादी की पालकी में भगवान जगन्नाथ की यात्रा निकाली जाएगी। ऋद्धि किशोर गौड़ ने बताया कि आशीष अग्रवाल के संयोजन में चारधाम मंदिर से कुंदनलाल अग्रवाल परिवार की अगुआई में यह यात्रा निकाली जाएगी। यह परंपरा बीते 81 वर्षो से बरकरार है। खेतगली, हनुमान मंदिर, तोप दरवाजा होते हुए यात्रा रानी कटरा स्थित चारों धाम मंदिर में समाप्त होगी। प्रसाद में कढ़ी-चावल वितरित किया जाएगा। सफाई में श्री शुभ संस्कार समिति के लक्ष्मीकांत पांडेय, कृष्णानंद राय, रामशरण, विनय महेश्वरी समेत कई लोग शामिल हुए।

श्री जगन्नाथ रथयात्रा एवं नवरात्र मेला प्रबंधन समिति चौक की ओर से तीन रथों पर जगन्नाथ यात्रा निकाली जाएगी। संयोजक अनुराग मिश्रा अन्नू ने बताया कि मौके पर सुंदर रथ सज्जा प्रतियोगिता होगी। यात्रा बड़ी काली जी मंदिर से शुरू होगी। इसमें ऊंट, घोड़े, बैंड और झांकिया भी होंगी। यात्रा बड़ी काली जी से निकलकर चौपटिया, गोल दरवाजे, अकबरी गेट होते कुड़ियाघाट पहुंचेगी। नाव पर बैठाकर भगवान को नौका विहार करवाया जाएगा। वहा से कोनेश्वर महादेव मंदिर होते हुए वापस बड़ी काली जी मंदिर पहुंचेगी। समिति के सदस्यों की ओर से गोमती की सफाई की गई।

अमीनाबाद के मारवाड़ी गली से भगवान श्री जगन्नाथ की यात्रा का 94वा आयोजन होगा। इसमें अष्टधातु की बनी 100 साल पुरानी श्रीराम जानकी, श्रीराधा कृष्ण और रामलला की प्रतिमाएं रथ पर निकाली जाएंगी। यात्रा में पर्यावरण संरक्षण का संदेश पौधों के बीज बाटकर दिया जाएगा। सूर्य प्रकाश पाठक ने बताया कि यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं को पॉलीथिन का प्रयोग न करने का संदेश दिया जाएगा, इसके साथ ही समाज को पॉलीथिन मुक्त करने का संकल्प भी दिलाया जाएगा। यात्रा में सुंदरकाड मंडली, पारंपरिक लिल्ली घोड़ी के अलावा झांकिया भी शामिल होंगी। यात्रा गणेशगंज, गुरुद्वारा नाका ¨हडोला, बांसमंडी, लाटूश रोड, कैसरबाग व नजीराबाद होते हुए अमीनाबाद स्थित हनुमान मंदिर में संपन्न होगी।

चांदी का मुकुट और बनारस के कपड़े से सजेंगे भगवान

डालीगंज के माधव मंदिर से भगवान श्री जगन्नाथ यात्रा में पहली बार विभिन्न समाजसेवी संस्थाएं शामिल होंगी जो शिक्षा, स्वास्थ्य, सामाजिक सरोकारों के प्रति लोगों को जागरूक करेंगे। प्रवक्ता अनुराग साहू ने बताया कि भारत भूषण गुप्ता के संयोजन में शनिवार को सुबह 11 बजे यात्रा निकलेगी। भगवान जगन्नाथ, बलराम और सुभद्रा को चांदी के मुकुट और बनारस से आए कपड़ों से सजाया जाएगा। इससे पहले शुक्रवार को सुंदरकांड पाठ किया गया। यात्रा आइटी चौराहा, डालीगंज पुल होते हुए वापस श्री माधव मंदिर में संपन्न होगी। 15 को संत सम्मेलन व भंडारे के साथ यात्रा महोत्सव का समापन होगा।

भगवान जगन्नाथ सेवा समिति ऐशबाग की ओर से जगन्नाथ रथ यात्रा में ऊंट, छह बैंड और 60 झांकियों के साथ यात्रा निकलेगी। 64 साल निकल रही यात्रा मास्टर कन्हैयालाल रोड, नेहरू क्रास, रकाबगंज, यहियागंज, भदेवा चौराहा व पीली कॉलोनी होते हुए जनक कुटी में समाप्त होगी।

मोतीनगर के गौड़िया मठ से निकलने वाली यात्रा में वृंदावन से आए श्रद्धालु वहां के नजारे को यहां दिखाने का प्रयास करेंगे। कोलकाता, ओडिशा, मुंबई, दिल्ली, कुरुक्षेत्र, इलाहाबाद मथुरा, वाराणसी व पटना समेत कई शहरों के श्रद्धालु आएंगे।

विधान भवन के सामने निकलने वाली यात्रा के लिए आदमकद मिट्टी की प्रतिमा तैयार की जाएगी। ओम श्री भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा से पहले भगवान का आदि गंगा गोमती के जल से अभिषेक कराया जाएगा। डॉ. प्रवीण ने बताया कि यात्रा हलवासिया मार्केट प्रेस क्लब होते हुए बापू भवन पर समाप्त होगी।

कपूरथला स्थित श्री जगन्नाथ मंदिर से 150 साल से निकल रही यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं की ओर से चांदी की की झाडू़ से रास्ते को साफ कर फूलों की बारिश की जाएगी। 24 फीट ऊंचे रथ पर सवार भगवान श्री जगन्नाथ यात्रा में चादी की झाड़ू से रास्ते को साफ किया जाएगा। यात्रा अलीगंज नावेल्टी सिनेमा, इंडियन ऑयल तिराहा, चंद्रलोक व अलीगंज के नए हनुमान मंदिर में समाप्त होगी।

Print Friendly, PDF & Email

You May Also Like

   

     

     
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: