ट्रक लूटने वाले गिरोह का पर्दाफाश-पाच अरेस्ट, नंबर प्लेट बदल करते थे शिकार

लखनऊ । मड़ियाव पुलिस और एएसपी टीजी कार्यालय की सर्विलास सेल ने ट्रक लूटने वाले पाच ऐसे लुटेरों को गिरफ्तार किया है, जो ट्रक की नंबर प्लेट बदलकर फर्जी आरसी बनवाकर उसे धड़ल्ले से चलवाते थे। लुटेरों के फर्जी आरसी बनवाने में पुलिस आरटीओ कार्यालय के कर्मचारियों की मिलीभगत बता रही है। उनकी भूमिका की जाच करने के लिए संबंधित अधिकारियों को अवगत करा दिया गया है। एएसपी ट्रासगोमती हरेंद्र कुमार के मुताबिक, पकड़े गए लुटेरों में बर्रा कानपुर नगर निवासी सुधीर सिंह चौहान उसका ममेरा भाई फतेहपुर के भगवानपुर गाव निवासी नीरज, गाजियाबाद के विजयनगर निवासी खालिद उसका भाई शाहरुख व जीतू है।

पाचों लुटेरों के कब्जे से पुलिस ने तीन ट्रक, दो तमंचे, कारतूस, ढाई लाख रुपये, छह ट्रक के टायर, बोनट समेत ट्रक का अन्य सामान बरामद किया है। ट्रक संख्या यूपी 41 टी 8359 के मालिक संजय सिंह ने बताया कि लुटेरे 16 मई को गोंडा के गुरेटी गाव निवासी उनके ट्रक चालक शम्भू सिंह को सीतापुर हाइवे पर स्थित अनिल धर्मकाटा के पास तमंचे के बल पर बंधक बनाकर सरिया लदा ट्रक लेकर भाग निकले थे। बदमाशों ने इटौंजा के पास चालक को ट्रक से नीचे सड़क पर गिरा दिया था और ट्रक समेत 15 टन सरिया उड़ा ले गए।

चालक की तहरीर पर मड़ियाव पुलिस ने अज्ञात बदमाशों के खिलाफ एफआइआर दर्जकर सर्विलास सेल के साथ मिलकर बदमाशों की तलाश शुरू की थी। पानी और पत्थर भरकर कमाते थे सीओ अलीगंज दीपक सिंह ने बताया कि लुटेरे ट्रक में लदे सामान को धर्मकाटा पर तौल कराने से पहले ट्रक में लगी टंकी में पानी भर देते थे, ड्राइविंग और कंडक्टर की सीट के नीचे पत्थर रख देते थे। जिससे सामान का भार बढ़ जाता था।

तौल कराने के बाद पानी और पत्थर निकालकर सामान बेचकर अतिरिक्त धनराशि कमाते थे। पुलिस टीम को 25 हजार का इनाम. लुटेरों का पर्दाफाश करने वाली पुलिस टीम को एसएसपी दीपक कुमार ने 25 हजार के इनाम की घोषणा की है। टीम में इंस्पेक्टर मड़ियाव अमरनाथ वर्मा, दारोगा राजेश सिंह, अमित तिवारी सिपाही सूरज सिंह, एएसपी टीजी सर्विलास सेल के दारोगा अजय त्रिपाठी, एचसीपी योगेंद्र, सिपाही रामनरेश कनौजिया, विद्यासागर उर्फ पहलवान समेत अन्य पुलिसकर्मी शामिल हैं।

Print Friendly, PDF & Email

You May Also Like

   

     

     
error: Content is protected !!