केरल में नन से रेप के आरोपी बिशप ने किया सरेंडर,

केरल के कोट्टयम में स्थित मशहूर मालंकारा ऑर्थोडॉक्स सीरियन चर्च की एक नन से रेप के आरोपी एक बिशप ने सरेंडर कर दिया है. पुलिस ने बताया कि हालांकि रेप के आरोपी अन्य बिशप फरार चल रहे हैं और उनकी तलाश की जा रही है. सरेंडर करने वाले बिशप को कोल्लम से तिरुवाला लाया गया है. रेप की शिकायत दर्ज होने के करीब 15 दिन बाद इस मामले में यह पहली गिरफ्तारी है. हालांकि इस बीच एक आरोपी बिशप ने उल्टे नन पर यह आरोप लगाया है कि अनुशासनात्मक कार्रवाई से बचने के लिए उसने रेप का आरोप लगाया है.

8 बिशपों पर 380 बार यौन शोषण का आरोप

विवाह के बाद जब नन के पति को उसके साथ हुए अत्याचार के बारे में पता चला तो उसने चर्च में इसकी शिकायत की. नन के पति ने चर्च को चिट्ठी लिखकर आठ पादरियों के खिलाफ शिकायत की थी, हालांकि उसने सिर्फ पांच पादरियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी.अपने शिकायत में पीड़िता के पति ने लिखा है कि चर्च के विभिन्न धर्माधिकार क्षेत्रों में नियुक्ति के दौरान आरोपी पादरियों ने उसका यौन शोषण किया.

यहां तक कि पीड़ित नन की शादी होने तक वे उसका यौन शोषण करते रहे. शिकायत में कहा गया है कि इस दौरान पादरियों ने नन का 380 बार यौन शोषण किया. और एक पादरी ने तो उसके साथ 13 बार रेप किया. नन ने अपनी शिकायत में कहा है कि आरोपी बिशप ने केरल में पोस्टिंग के दौरान 2014 से 2016 के बीच अपने गेस्ट हाउस में उसका यौन शोषण किया.

कार्यमुक्त किए गए आरोपी बिशप

शिकायत मिलने के बाद चर्च की वर्किंग कमिटी के सदस्य और चर्च के प्रधान पादरी एमओ जॉन ने पांचों आरोपी बिशपों को छुट्टी पर भेज दिया. आरोपी बिशपों में से एक बिशप चर्च के दिल्ली अधिकार क्षेत्र के लिए काम करने वाली शाखा से जुड़ा था.

पांचों पादरियों की पहचान भी सामने आ गई है. यौन शोषण के आरोप में चर्च से निलंबित किए गए पादरियों में फादर जीजो जे अब्राहम, फादर जॉब मैथ्यू, फादर जॉनसन वी मैथ्यू, फादर जेसे के जॉर्ज और फादर अब्राहम वर्गीज के नाम सामने आ रहे हैं.

कन्फेशन का उठाया फायदा, ब्लैकमेल कर किया यौन शोषण

पीड़िता के पति ने चर्च को लिखी शिकायती चिट्ठी में बताया है कि उसकी पत्नी ने एक बिशप के समक्ष कुछ कन्फेशन किया था, जिसे चर्च के नियमों के मुताबिक बिशप को सिर्फ खुद तक सीमित रखना चाहिए था. लेकिन आरोपी बिशप ने उसकी पत्नी द्वारा किए गए कन्फेशन के जरिए ही उसे ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया.

पीड़िता के पति और चर्च के एक अधिकारी के बीच इसी घटना को लेकर हुई बातचीत का एक ऑडियो क्लिप भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है. इस ऑडियो क्लिप में पीड़िता को पति को यह कहते सुना जा सकता है कि विवाह से पहले चर्च के एक बिशप ने उसकी पत्नी का यौन शोषण किया था.

बाद में पीड़िता ने जब विवाह से पहले रहे प्रेम संबंधों को लेकर कन्फेशन किया तो कन्फेशन सुनने वाले बिशप ने भी उसका यौन शोषण किया. इसके लिए बिशप ने उसकी पत्नी को धमकी दी कि वह उसके पति को इस बारे में सबकुछ बता देगा.

Print Friendly, PDF & Email

You May Also Like

   

     

     
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: