सेना में नहीं मिली नौकरी, ‘जय भारत’ कहते हुए फेसबुक पर की लाइव सुसाइड

बेरोजगारी की निराशा इतनी कि उसने खुदकुशी कर ली, वह भी हजारों लोगों के सामने. एक बार नहीं, उसने पांच बार कोशिश की. लेकिन हर बार नाकाम रहा. नाकामी और बेरोजगारी की हताशा इतनी कि जिंदगी भी उसे भारी लगने लगी. घरवालों को तो उसने नहीं बताया, लेकिन फेसबुक पर जरूर अपने फॉलोअर्स से मुखातिब हुआ. करीब 2700 लोगों ने उसे फांसी का फंदा लगाते हुए फेसबुक पर लाइव देखा, लेकिन मदद के लिए एक आवाज नहीं उठी.

दहला देने वाली यह घटना उत्तर प्रदेश के आगरा की है और खुदकुशी करने वाला 24 वर्षीय युवक मुन्ना कुमार सेना में भर्ती होना चाहता था. लेकिन घोर हताशा के क्षणों में भी उसने किसी को दोषी नहीं ठहराया, बल्कि अपनी नाकामियों का सारा इल्जाम खुद पर ओढ़ लिया. सेना में भर्ती होकर देश की सेवा का जज्बा लिए मुन्ना की जिंदगी के आखिरी दो शब्द थे ‘जय हिंद, जय भारत’.

बुधवार को तड़के जब फेसबुक पर मुन्ना को फॉलो करने वालों ने उसे लाइव देखा तो किसी को अंदाजा भी नहीं था कि मुन्ना थोड़ी ही देर में उनकी आंखों के सामने ही दुनिया छोड़कर चला जाएगा. मुन्ना ने मरने से पहले 6 पेज का एक सुसाइड नोट भी लिखा है.

फेसबुक पर अपने सुसाइड के लाइव वीडियो में भी मुन्ना ने इस सुसाइड नोट का हवाला दिया है. सुसाइड करने से पहले मुन्ना फेसबुक वीडियो में कहता है, ‘नमस्कार दोस्तों! सुसाइड के लिए फांसी का फंदा तैयार हो चुका है. और सुसाइड नोट भी लिख लिया हूं. मैं अपनी मर्जी से सुसाइड कर रहा हूं. इसमें किसी प्रकार से किसी का दबाव नहीं है. पुलिस प्रशासन से यही मेरा अनुरोध है कि वे किसी तरह मेरे परिवार को परेशान न करें. धन्यवाद, जय हिंद, जय भारत.’

इस मामले में सबसे हैरान करने वाली बात यह रही कि मुन्ना हजारों लोगों के सामने फांसी का फंदा लगाता रहा, लेकिन किसी ने भी युवक के परिवार वालों को सतर्क करने की कोशिश तक नहीं की. सुसाइड का वीडियो सामने आने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और मुन्ना का शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. मुन्ना के परिवार वालों का कहना है कि उसने सेना भर्ती परीक्षा में पांच बार हिस्सा लिया, लेकिन हर बार वह नाकाम ही रहा.

जानकारी के मुताबिक, मुन्ना के पिता ने हाल ही में उसके लिए एक दुकान भी खुलवा दी थी, ताकि बेरोजगार मुन्ना का मन लगा रहे. लेकिन मुन्ना का मकसद सिर्फ एक ही था, भारतीय सेना में भर्ती होकर देश की सेवा करना . घरवालों ने बताया कि पांच बार परीक्षा में शामिल होने के बाद भी उसका सेलेक्शन नहीं हुआ और अब उसकी उम्र भी तय सीमा को पार कर गई थी.  सुसाइड करने से कुछ ही घंटे पहले वह बिल्कुल सामान्य था और घरवालों के साथ बैठकर नाश्ता भी किया था. घरवालों ने कहा कि उन्हें जरा भी अंदाजा नहीं था कि वह सुसाइड करने की सोच रहा है.

Print Friendly, PDF & Email

You May Also Like

   

     

     
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: