गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड को कांग्रेस ने लिखा पत्र, ‘दर्ज हो प्रधानमंत्री मोदी का नाम’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विदेश यात्राओं को लेकर कांग्रेस ने एक बार फिर उनपर निशाना साधा है। गोवा कांग्रेस ने गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स को पत्र लिखकर प्रधानमंत्री मोदी का नाम ‘सबसे ज्यादा विदेश यात्रा का रिकॉर्ड स्थापित करने’ के मामले में गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज करने की अपील की है। गोवा कांग्रेस के महासचिव संकल्प अमोनकर ने यूनाइटेड किंगडम में गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स के अधिकारियों को पत्र भेजा है। ये पत्र उन्होंने एक पंजीकृत पोस्ट के माध्यम से भेजा है।

उन्होंने अपने पत्र में लिखा है ‘हम भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम का सुझाव देने के लिए अभिभूत हैं और बेहद खुश भी हैं, जिन्होंने विश्व रिकॉर्ड स्थापित किया है। उन्होंने सही ढंग से भारत के संसाधनों का उपयोग किया है और चार वर्षों में 52 देशों में 41 यात्राएं करने का रिकॉर्ड स्थापित किया है। उन्होंने पहले ही इसपर 355 करोड़ रुपये खर्च किए हैं।’

संकल्प अमोनकर ने कहा कि वह (प्रधानमंत्री मोदी) भारत की भविष्य की पीढ़ियों के लिए एक प्रेरणास्रोत (रोल मॉडल) बन गए हैं, क्योंकि दुनिया के किसी अन्य प्रधानमंत्री ने अपने संबंधित कार्यकाल के दौरान इतने देशों में यात्रा नहीं की है। उन्होंने आगे कहा कि प्रधानमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी के कार्यकाल के दौरान भारतीय रुपये का मूल्य अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 69.03 रुपये कम हो गया था। उन्होंने कहा कि हम मोदी सरकार की हास्यास्पदता को उजागर करना चाहते हैं, जिसमें प्रधानमंत्री ने भारत की तुलना में विदेश में अधिक समय बिताया है।

बता दें कि हाल ही में पीएमओ ने एक आरटीआई के जवाब में प्रधानमंत्री मोदी की बीते चार वर्षों में हुई विदेश यात्राओं पर खर्च को लेकर जानकारी दी थी। इसमें बताया गया था कि प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी विदेश यात्रा पर 355 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। 41 विदेशी दौरों में उन्होंने 52 देशों की यात्रा की जिसमें 355 करोड़ रुपए खर्च हुए। कार्यकर्ता भीमप्पा गडड द्वारा दायर आरटीआई में पीएमओ ने यह भी बताया था कि इन यात्राओं के दौरान पीएम मोदी करीब 165 दिन विदेश में रहे।

Print Friendly, PDF & Email

You May Also Like

   

     

     
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: