शाह ने जेटली संग तैयार की रणनीति, तीन तलाक और ओबीसी बिल पारित कराने की है योजना

अगले हफ्ते बुधवार से शुरू हो रहे संसद के मानसून सत्र के लिए भाजपा ने विपक्षी हमले की काट ढूंढने और अहम बिल पारित कराने की रणनीति बनानी शुरू कर दी है। इस क्रम में मंगलावार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने वित्त मंत्री अरुण जेटली के साथ भावी रणनीति पर चर्चा की। इस दौरान इसी सत्र में राज्यसभा के उपसभापति पद के लिए होने वाले चुनाव पर भी चर्चा हुई। भाजपा और सरकार की योजना इस सत्र में तीन तलाक और ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा देने वाले बिल को हर हाल में पारित कराने की है।

शाह किडनी ट्रांसप्लांट के बाद स्वास्थ्य लाभ ले रहे जेटली से रेल मंत्री पीयूष गोयल की उपस्थिति में उनके निवास पर मिले। करीब डेढ़ घंटे चली बैठक में सत्र के दौरान विपक्षी हमले से निपटने के साथ खास तौर पर उपसभापति पद के चुनाव पर चर्चा हुई पार्टी सूत्रों का कहना है कि विपक्ष को पटखनी देने केलिए भाजपा इस पद का प्रस्ताव अकाली दल या टीडीपी को भी दे सकती है। गौरतलब है कि राज्यसभा में सबसे बड़ी पार्टी होने और राजग का संख्या बल ज्यादा होने के बावजूद पार्टी बहुमत से बहुत दूर है।

सत्र में भाजपा और सरकार की योजना हर हाल में एक साथ तीन तलाक पर रोक लगाने और राज्यसभा में लटके ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा देने वाले बिल को कानूनी जामा पहनाने की है। इसके अलावा इस सत्र में टीडीपी ने फिर से सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की घोषणा की है। विपक्ष कश्मीर मुद्दे पर सरकार को घेरने के मूड में है। ऐसे में विपक्षी हमले को कुंद करने की भी रणनीति बनी।

17 को सर्वदलीय बैठक 
सत्र को सुचारू रूप से चलाने के लिए सरकार ने जहां 17 जुलाई को सर्वदलीय बैठक बुलाई है। वहीं लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने सांसदों को पत्र लिख कर सहयोग मांगा है।

Print Friendly, PDF & Email

You May Also Like

   

     

     
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: