अफगानिस्तान की टीम, राशिद और मुजीब पर रहेंगी सभी की निगाहें

देहरादून ।  बांग्लादेश और अफगानिस्तान के बीच खेली जी रही टी 20 सीरीज़ का दूसरा मुकाबला मंगलवार को खेला जाएगा। इस मुकाबले में अफगानिस्तान के पास सीरीज़ जीतकर इतिहास रचने का मौका है।तीन मैचों की इस सीरीज़ का पहला मैच अफगानिस्तान ने 45 रन से जीतकर सीरीज़ में 1-0 की बढ़त बना ली थी और अफगान टीम दूसरा मैच जीत जाती है तो ये सीरीज़ भी वो अपने नाम कर लेगी। इसी के साथ अफगानिस्तान की इतिहास भी रच सकती है क्योंकि अगर वो आज जीत जाती है तो ये अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पहला मौका होगा जब अफगानिस्तान की टीम बांग्लादेश को हराकर कोई टी 20 सीरीज़ अपने नाम करेगी।

पिछले मुकाबले में राशिद खान ने तीन विकेट लेकर बांग्लादेश की कमर तोड़ दी थी। दूसरे मुकाबले में भी राशिद की नज़र बांग्लादशी बल्लेबाज़ों को अपने फिरकी के फंदे में फंसाने पर होगी। राशिद खान को पहले मैच के लिए मैन ऑफ द मैच के खिताब से भी नवाज़ा गया था। इससे पहले अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दोनों टीमों के बीच टी-20 मुकाबला 2014 के विश्व कप में खेला गया था। इसमें बांग्लादेश ने अफगानिस्तान को नौ विकेट से शिकस्त दी थी। तब से अब तक अफगानिस्तान की टीम मजबूत हो चुकी है। रविवार को उन्होंने यह मैदान पर जीत के साथ साबित कर दिया। वहीं पहले मुकाबले में अफगानिस्तान ने बांग्लादेश को 45 रनों से शिकस्त देकर विश्व कप की हार बदला भी ले लिया और 1-0 से सीरीज में बढ़त भी बना ली 

मैच में अफगानिस्तान की गेंदबाजी और बल्लेबाजी दोनों ही शानदार रही। बांग्लादेशी टीम के पास अफगानिस्तान से ज्यादा अनुभव है लेकिन मैच के दौरान अफगानिस्तानी  खिलाड़ि‍यों ने जो जज्बा दिखाया वह बांग्लादेश टीम के अनुभव पर भारी पड़ा। बांग्लादेश को अगर सीरीज में वापसी करनी है तो बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों क्षेत्रों में सुधार करना होगा।

इसलिए सोमवार सुबह ही बांग्लादेश के कुछ खिलाडिय़ों ने मैदान पर अभ्यास किया। शाम को बांग्लादेश की पूरी टीम प्रैक्टिस सेशन के लिए मैदान पर उतरी। टीम के कोच भी खिलाड़ि‍यों को टिप्स देते नजर आए। क्योंकि, जितना दबाव खिलाड़ि‍यों पर है, उतना ही कोच पर भी। अगर बांग्लादेश की टीम मैच जीतती है तो अंतिम मुकाबला निर्णायक और रोमांचक रहेगा। राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम को अफगानिस्तान ने अपना होम ग्राउंड बनाया है। टीम 18 मई को ही देहरादून पहुंच गई थी। इसके बाद मैदान पर खूब अभ्यास और कई प्रैक्टिस मैच भी खेले। जबकि, बांग्लादेश की टीम पांच दिन पहले ही यहां पहुंची थी। ऐसे में अफगानिस्तान के खिलाड़ी पिच के मिजाज को भली-भांति समझ चुके हैं।

Print Friendly, PDF & Email

You May Also Like

   

     

     
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: