बॉल टेम्परिंग: ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट में पहली बार टेस्ट मैच के बीच कप्तान ने पद छोड़ा, पीएम ने दिया था दखल

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर्स के फैसले के पीछे टेम्परिंग को लेकर पीएम मैल्कम टर्नबुल के दखल को मुख्य वजह बताया जा रहा है।

न्यूलैंड्स.ऑस्ट्रेलिया और साउथ अफ्रीका के बीच तीसरे टेस्ट में बॉल टेम्परिंग विवाद को लेकर कंगारू टीम के कप्तान स्टीव स्मिथ और उप कप्तान डेविट वॉर्नर ने रविवार को इस्तीफा दे दिया। क्रिकेटर्स के इस फैसले के पीछे टेम्परिंग को लेकर ऑस्ट्रेलियाई पीएम मैल्कम टर्नबुल के दखल को मुख्य वजह बताया जा रहा है। पूर्व क्रिकेटर शेन वॉर्न के मुताबिक, ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट के इतिहास में पहली बार किसी कप्तान ने टेस्ट मैच के बीच इस्तीफा दिया है। क्रिकेट बोर्ड ने बताया कि अब टेस्ट सीरीज में टिम पेन कप्तानी करेंगे।

1) ऑस्ट्रेलियाई पीएम ने टेम्परिंग पर क्या कहा?

ऑस्ट्रेलियाई पीएम मैल्कम टर्नबुल ने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के चेयरमैन डेविड पीवर को बॉल टेम्परिंग विवाद में जरूरी कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे। उन्होंने कहा, ”देश में शायद क्रिकेटर्स को नेताओं से भी ऊपर देखा जाता है। ऐसे में यह घटना निराशाजनक है।

2) क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने क्या कहा?

सीए ने बयान में कहा, ”हम टेस्ट मैच जारी रखना चाहते हैं। इस मामले की जांच में सहयोग करेंगे। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया और हमारे प्रशंसकों की यह अपेक्षा रहती है कि हमारे देश का प्रतिनिधित्व करने वाले क्रिकेट के मानकों को ध्यान में रखें, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।”
“स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर से इस मुद्दे पर बातचीत हुई। दोनों साउथ अफ्रीका के साथ तीसरे टेस्ट मैच में ही कप्तान और उप-कप्तान पद छोड़ने के लिए तैयार हो गए।”

3) सीरीज के बीच में कप्तान बने टिम पेन

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने ट्वीट में कहा कि अब तीसरे टेस्ट के लिए टिम पेन टीम को कप्तान बनाया गया है।

हालांकि, पहले सीए के सीईओ जेम्स सदरलैंड ने कहा कि जांच के बगैर कोई फैसला नहीं होगा। इसके पूरे होने तक स्मिथ कप्तान बने रहेंगे।

क्या है बॉल टेम्परिंग मामला?
4) किसने की टेम्परिंग?

स्मिथ के मुताबिक, बॉल टेम्परिंग के लिए ओपनिंग बल्लेबाज कैमरन बेनक्रॉफ्ट को चुना गया। पिछले कुछ समय से उनके खराब प्रदर्शन को लेकर टीम में चर्चाएं भी चल रही थीं।
वहीं, बेनक्रॉफ्ट ने टेम्परिंग की बात कबूलते हुए कहा कि वो गलत वक्त पर गलत जगह मौजूद थे। उन्होंने इसके पीछे किसी तरह के दबाव की बात से इनकार किया है।
बता दें कि बेनक्रॉफ्ट ऑस्ट्रेलिया के कम चर्चित खिलाड़ी हैं। माना जा रहा है कि इसीलिए उन्हें टेम्परिंग की जिम्मेदारी दी गई, ताकि मामला ज्यादा बड़ा न बन पाए।

5) कैसे पकड़ में आया टेम्परिंग का मामला?

बॉल को घिसने के दौरान देरी होने पर अंपायरों में शक पैदा हुआ। उन्होंने बेनक्रॉफ्ट से पूछताछ की। तब उन्होंने अंपायरों को जेब से एक सनग्लासेज का बॉक्स निकालकर दिखाया।

अंपायरों ने टीवी कैमरा पर इस घटना को बारीकी से देखा। इसमें साफ हो गया कि बेनक्रॉफ्ट अंडरवियर में पीले रंग की टेप छिपाकर मैदान पर लाए थे। जब भी उन्हें मौका मिलता वे उसमें ग्राउंड से कंकड़ इकट्ठा कर लेते। इस तरीके से बॉल घिसने के लिए वो बार-बार टेप का इस्तेमाल कर रहे थे।

टेम्परिंग की घटना को ग्राउंड में लगे स्क्रीन पर भी कई बार स्लो मोशन में दिखाया गया। लाइव टेलिकास्ट के दौरान इस घटना का बार-बार रीप्ले भी दिखाया गया।

6) टेम्परिंग पर स्मिथ ने क्या कहा?

शनिवार को खेल खत्म होने के बाद ऑस्ट्रेलिया ने एलान किया कि उनका कोई भी खिलाड़ी सामान्य इंटरव्यू में हिस्सा नहीं लेगा, बल्कि टीम सिर्फ एक न्यूज कॉन्फ्रेंस ही करेगी।
कॉन्फ्रेंस के दौरान स्मिथ और बेनक्रॉफ्ट से टेम्परिंग को लेकर कई सवाल किए गए। दोनों ने आरोपों को कबूल भी लिया। स्मिथ ने कहा कि टीम के खिलाड़ी ऐसी कोशिश कर कुछ बढ़त हासिल करना चाहते थे, क्योंकि हमें ये मैच काफी अहम लगा। इसमें कई सीनियर खिलाड़ी भी शामिल हैं।

7) क्या कार्रवाई कर सकता है आईसीसी?

माना जा रहा कि इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) खिलाड़ियों पर गलत व्यवहार के लिए जुर्माने का एलान कर सकता है।

बेनक्रॉफ्ट ने कहा कि उन पर टेम्परिंग का जुर्माना लगा है। इसके तहत खिलाड़ी पर एक टेस्ट का बैन और मैच फीस का 100% जुर्माना लगाया जा सकता है।

वहीं, स्मिथ और बाकी सीनियर खिलाड़ियों का रोल सामने आने पर उनके खिलाफ भी कार्रवाई हो सकती है।

अंपायरों नें मैच के बीच में बेनक्रॉफ्ट से पूछताछ की थी, हालांकि बेनक्रॉफ्ट ने गेंद से छेड़छाड़ की बात नहीं मानी।
बॉल टेम्परिंग: ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट में पहली बार टेस्ट मैच के बीच कप्तान ने पद छोड़ा, पीएम ने दिया था दखल,

Print Friendly, PDF & Email

You May Also Like

   

     

     
error: Content is protected !!