राहुल गांधी का इंडिया गेट पर कैंडल मार्च, बोले-ये राजनीतिक मामला नहीं है

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश के उन्नाव और जम्मू के कठुआ में हुई गैंगरेप की घटनाओं के विरोध में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ रात 12 बजे अपने मार्च शुरू किया. राहुल गांधी के साथ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद, अशोक गहलोत और दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कई नेता साथ में है. इस मार्च में राहुल गांधी के साथ प्रियंका वाड्रा और उनके पति रॉबर्ड वाड्रा भी दिखे. आपको बता दें कि राहुल गांधी ने दिल्ली पुलिस से इस मार्च के बाबत कोई इजाजत नहीं ली है.

मार्च के लिए सबसे पहले सभी कांग्रेस कार्यकर्ताओं को दीन दयाल उपाध्याय मार्ग पर स्थित दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कार्यालय पर एकत्रित करने के लिए कहा गया था. लेकिन बाद में सभी को मानसिंह रोड आने के कहा गया. मानसिंह रोड से कांग्रेस कार्यकर्ता इंडिया गेट के लिए निकल चुके है. इस दौरान कांग्रेस कई बड़े नेता मार्च में दिखे. पूर्व केंद्रीय मंत्री भंवर जितेंद्र सिंह ने ज़ी मीडिया को बताया कि हम सोती हुई सरकार को जगाने के लिए सड़क पर उतरे हैं. मार्च में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राजीव शुक्ला भी दिखे. इस दौरान भीड़ इतनी ज्यादा थी कि किसी भी नेता का मीडियाकर्मियों से बात करना संभव नहीं हो सका. राहुल गांधी मानसिंह रोड से दो बैरिकैड्ट्स को पार करके अमर जवान ज्योति से करीब 25 मीटर करीब तक पहुंचे और कुछ देर मौन होकर बैठे.

ये राजनीतिक मामला नहीं हैः राहुल गांधी
राहुल गांधी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि यह राजनीतिक मामला नहीं है. यह राष्ट्रीय मामला है. यहां सभी पार्टियों के लोग खड़े हैं. देश में जो हालत है सरकार को इसके बारे में कुछ करना चाहिए. देश की बेटियों को बचाने का काम नरेंद्र मोदी शुरू करें. सरकार को चाहिए कि ये सुनिश्चित करें कि हिंदुस्तान की महिला शांति से सड़क पर उतर पाए और अपनी जिंदगी जी पाए. महिलाओं के खिलाफ देशभर में जो भी हत्या और रेप की वारदातें हो रही हैं हम उसके खिलाफ यहां खड़े हैं.

प्रियंका वाड्रा को आया गुस्सा
प्रियंका वाड्रा हाथ में कैंडल लिए आगे बढ़ती हुई नजर आईं. इस दौरान किसी अन्य कार्यकर्ता के हाथ में कैंडल नहीं दिखाई दी. इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रियंका वाड्रा को धक्का मारा. थोड़ी देर तक हुई धक्का मुक्की के बाद प्रियंका वाड्रा अचानक गुस्सा हो गई और कांग्रेस कार्यकर्ताओं को ही लताड़ा. प्रियंका ने कहा कि जिस वजह से आप यहां आए हैं उस वजह के बारे में सोचिए आप यहां क्यों आए है? जिसके धक्का मारना है वो घर चलें जाएं. प्रियंका वाड्रा ने कहा कि मैं यहां राजनीतिक हस्ती के रूप में नहीं आईं हूं. मैं यहां एक मां के तौर पर आईं हूं.

मार्च से पहले राहुल गांधी ने अपने ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट से लिखा, ‘भारत के करोड़ों नागरिकों की तरह आज मेरा दिल भी दुखी है, महिलाओं का इस तरह से अपमान देश बर्दाश्त नहीं करेगा. न्याय की मांग और हिंसा के खिलाफ आज रात 12 बजे इंडिया गेट पर पहुंचे और मेरे साथ शांतिपूर्ण कैंडल मार्च में भाग लें. ‘

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय माकन ने भी ट्वीट कर अपने सभी कार्यकर्ताओं को रात 11 बजे ही प्रदेश पार्टी कार्यालय में इकट्ठा होने के लिए कहा है. अजय माकन ने लिखा है कि उन्नाव और कठुआ की घटना के विरोध में दिल्ली कांग्रेस के सभी कार्यकर्ता रात 11 बजे डीपीसीसी कार्यालय पहुंचे, वहां से हम इंडिया गेट के लिए मार्च करेंगे.

राज्यसभा में कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा, ‘यह सरकार सो रही है और इसलिए इस समय कांग्रेस को उन्हें जगाना पड़ रहा है. पीएम ने स्लोगन दिया था बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, और उनके की कार्यकाल में हमारी बच्चियों के साथ रेप हो रहा है. लेकिन पीएम मोदी अपने उन मंत्रियों पर कार्रवाई नहीं कर रहे हैं जो रेप के आरोपियों को बचाने की कोशिश कर रहे है’

View image on Twitter

कठुआ बलात्कार-हत्या : नेताओं से लेकर नामचीन हस्तियों ने आक्रोश जताया
केंद्रीय मंत्री वीके सिंह से लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सहित विभिन्न दलों के नेताओं और फिल्म जगत एवं अन्य क्षेत्रों से जुड़ी नामचीन हस्तियों ने कठुआ में तीन माह पहले बकरवाल समुदाय की आठ वर्ष की बच्ची से बलात्कार और उसकी हत्या मामले के खिलाफ आक्रोश जाहिर किया. देश भर में इस घटना को अंजाम देने वालों को ‘ कठोर दंड ’ देने की मांग के बीच शहर में इस मामले में आठ लोगों की गिरफ्तारी पर राजनीति का मुद्दा छाया रहा.  जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि उनकी सरकार कानून को बाधित नहीं होने देगी और बच्ची के साथ इंसाफ होगा.

देश को झकझोर देने वाली इन दोनों घटनाओं पर जावेद अख्तर, अक्षय कुमार, अभिषेक बच्चन, स्वरा भास्कर और हंसल मेहता, सहित फिल्म उद्योग के अन्य कलाकारों ने सोशल मीडिया पर इसकी भर्त्सना की. वहीं टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ने भी इस घटना पर सवाल खड़े किए हैं.

विधायक की गिरफ्तारी न होने पर राज्य को अदालत की फटकार
उन्नाव में नाबालिग लड़की से सामूहिक बलात्कार के मामले में लोगों में बढ़ते रोष के बीच इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने प्राथमिकी दर्ज होने के बावजूद आरोपी विधायक को गिरफ्तार नहीं करने के लिये राज्य सरकार को फटकार लगाई. अदालत ने चेतावनी दी कि वह अपने आदेश में राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति चरमरा जाने का उल्लेख करने पर मजबूर होगी.

उत्तर प्रदेश पुलिस ने आखिरकार सत्तारूढ़ भाजपा के विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर नाबालिग लड़की से उन्नाव में कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार किये जाने के सिलसिले में आज मामला दर्ज कर लिया. साथ ही राज्य सरकार ने मामले की जांच सीबीआई से कराने का फैसला किया है. विधायक के खिलाफ यह मामला पीड़िता के अधिकारियों पर निष्क्रियता का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के आवास के बाहर आत्मदाह का प्रयास करने और उसके एक दिन बाद पीड़िता के पिता की हिरासत में मौत होने के कुछ दिन बाद दर्ज किया गया है.

केंद्र ने उन्नाव बलात्कार मामले की सीबीआई जांच को मंजूरी दी
केंद्र ने उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में एक भाजपा विधायक द्वारा 17 वर्षीय लड़की से कथित बलात्कार के मामले की सीबीआई जांच को आज मंजूरी दे दी. एक अधिकारी ने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार की सीबीआई जांच की सिफारिश पर कार्मिक मंत्रालय ने अधिसूचना जारी कर दी है. पीड़िता ने पिछले रविवार को भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ पुलिस की कथित निष्क्रियता को लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास के बाहर आत्मदाह की कोशिश की थी. इसके बाद यह मामला प्रकाश में आया था.

Print Friendly, PDF & Email

You May Also Like

   

     

     
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: